فيديو

महाराष्ट्र की आंगनबाड़ियों में आठ लाख फर्जी लाभार्थी मिले




रजिस्ट्रेशन को आधार से जोड़ने के बाद मामले का खुलासा हुआ
एजेंसी | नई दिल्ली
महाराष्ट्र की 1.09 लाख आंगनबाड़ियों में रजिस्टर्ड 61 लाख लाभार्थियों में से करीब आठ लाख के फर्जी होने का पता चला है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि आधार नंबर के साथ रजिस्ट्रेशन के बाद फर्जी लाभार्थियों की पहचान हुई। उल्लेखनीय है कि छह साल से छोटे बच्चों में कुपोषण की समस्या से लड़ने के लिए सरकार आंगनबाड़ी या ग्रामीण बाल देखभाल केंद्र स्थापित करती है। स्तनपान करवाने वाली माताओं को भी इनमें पौष्टिक आहार दिए जाते हैं। हर बच्चे के प्रतिदिन के खाने के लिए मंत्रालय 4.8 रुपए और राज्य सरकार 3.2 रुपए देती है। आंगनबाड़ी केंद्रों में रजिस्टर्ड फर्जी लाभार्थियों की पहचान कर उन्हें हटाने का काम देशभर में चल रहा है। असम में बच्चों के फिजिकल वेरिफिकेशन के दौरान 14 लाख फर्जी लाभार्थी मिले थे। इसके बाद जुलाई से देशभर में यह प्रक्रिया शुरू की गई।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

مقالات ذات صلة

زر الذهاب إلى الأعلى
إغلاق