فيديو

भास्कर न्यूज | नई दिल्ली,




भास्कर न्यूज | नई दिल्ली,
सुप्रीम कोर्ट के वकील और साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल का कहना है कि हर इलेक्ट्रॉनिक आइटम जो कंप्यूटर से जुड़ा है या कंप्यूटर की परिभाषा में शामिल है, वो असुरक्षित है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन भी शामिल है इसलिए उसे भी हैंकिंग से बाहर नहीं रखा जा सकता। ये सब हैक किया जा सकता है। वह गुरुवार को प्रेस क्लब 14 साल के 10वीं के छात्र दीपांशु पराशर की साइबर सुरक्षा पर लिखी गई बुक ‘द हैकिंग डाइमेंशन’ के विमोचन पर पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर, मोबाइल यहां तक इवीएम मशीन को भी हैक किया जा सकता है। अगर कोई यह दावा करता है कि यह सुरक्षित है, तो वह गलत है। चुनाव आयोग के समक्ष भारत में साल 2019 की आम चुनाव करना सबसे बड़ी चुनौती होगी। क्योंकि रशियन हैकर ने खुलेआम चेतावनी दी है, कि भारत के 2019 आम चुनाव के दौरान वह सिस्टम को हैक करेगा। ऐसे में चुनाव आयोग को साइबर सेफ्टी पर फोकस करने की जरूरत है। इसके लिए तैयारी करनी होगी। ऐसा नहीं है कि भारत में हैकर को रोकने वाले एक्सपर्ट नहीं है। लेकिन कोई कानून न होने की वजह से ये सामने नहीं आते हैं। एक कानून था जिसमें कुछ परिभाषाएं इस तरह बदलीं की उसका होना, न होना बराबर है। चीन इस मामले में काफी आगे है।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

مقالات ذات صلة

زر الذهاب إلى الأعلى
إغلاق