فيديو

तीखे मोड़ पर गाड़ियों का बैलेंस बिगड़ने से एक साल में 54 हजार हादसे हुए; इसलिए हर कार में लगेगा स्टेबिलिटी कंट्रोल सिस्टम




तीखे या अंधे मोड़ पर अक्सर गाड़ियों का बैलेंस बिगड़ जाता है। ये हादसे की भी वजह बनता है। ऐसे मोड़ों पर गाड़ियों का बैलेंस बिगड़ने से 2017 में करीब 54 हजार सड़क हादसे हुए। इनमें 17 हजार लोगों की जान गई। इसे कम करने के लिए हर फोर-व्हीलर में इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल सिस्टम लगाया जाएगा। सड़क परिवहन मंत्रालय ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। फरवरी में नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा और 2021 से सिर्फ ये सिस्टम लगी कारें ही बिकेंगी। शेष पेज 6 पर
कंट्रोल सिस्टम में होता है जायरोस्कोप सेंसर |स्टेबिलिटी कंट्रोल सिस्टम में जायरोस्कोप सेंसर लगा होता है। जायरोस्कोप सेंसर किसी वस्तु के झुकाव को पहचानने का काम करता है। ये सेंसर मोबाइल फोन में भी लगा होता है। इसकी वजह से ही फोन को सीधा रखने या झुकाने पर वीडियो उसी तरह एडजस्ट हो जाता है। यही सेंसर स्टेबिलिटी कंट्रोल में भी लगा होगा, जो टायरों के मोड़ पर झुकने को पहचान लेगा और उसी हिसाब से गाड़ी की स्पीड और टायर के झुकाव को एडजस्ट कर देगा।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

مقالات ذات صلة

زر الذهاب إلى الأعلى
إغلاق