أخبار العالم

ठगी के आरोपी को छोड़ने के बदले 1 करोड़ ले रहे थे पुलिसवाले, झगड़ा हुआ तो थाने पहुंची बात, एएसआई समेत 4 गिरफ्तार




ऑनलाइन चीटिंग केस के एक आरोपी को पकड़ने के बाद दिल्ली पुलिस ने उसे छोड़ने के एवज में डेढ़ करोड़ की डिमांड की। आरोपी की प|ी ने मोलभाव कर सौदा एक करोड़ में तय किया, 11 लाख की पहली किस्त अदा भी कर दी गई। बाकी पेमेंट का भुगतान मंगलवार दोपहर को होना तय था, लेकिन दोनों पक्षों के बीच बात बिगड़ गई। मौर्या एंक्लेव इलाके में उनके बीच झगड़ा हुआ तो मामला पुलिस के पास पहुंच गया। इसके बाद जो खुलासा हुआ उससे दिल्ली पुलिस की वर्दी पर एक बार फिर बदनुमा दाग लग गया और एक शख्स को बंधक बनाकर रखने व जबरन वसूली के मामले में तीन पुलिसकर्मियों, असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर सुबे सिंह, हेड कांस्टेबल इंदू परमार व कांस्टेबल अजय को ही गिरफ्तार कर लिया गया। चौथी गिरफ्तारी इनके सचिन नाम के साथी की हुई। गिरफ्तारी के बाद रणहौला थाने के एसएचओ को भी लाइन हाजिर कर जांच के आदेश दिए गए हैं।
रणहौला थाने में हैं पोस्टेड, किडनेपिंग और जबरन वसूली का केस दर्ज
पहले पकड़ा आरोपी, फिर प|ी से मांगी रिश्वत
28 सितंबर को छत्तीसगढ़ में ऑनलाइन चीटिंग का एक केस दर्ज हुआ था। 6 आरोपी थे, जिनमें से 5 पकड़े जा चुके हैं। छठवें आरोपी दिल्ली के कंझावला निवासी प्रदीप प्रधान को तीनों पुलिस वालों ने पकड़ा और उत्तमनगर स्थित सचिन के घर रखा। इसके बाद उन्होंनेे प्रदीप की प|ी नेहा से संपर्क किया और पति को छोड़ने के एवज में डेढ़ करोड़ मांगे। 1 करोड़ में डील हुई। नेहा ने रविवार को 11 लाख की पहली किस्त भी दे दी।
प|ी बोली-पहले पति को दिखाओ, यहीं बिगड़ी बात
बाकी रकम का भुगतान मंगलवार दोपहर मौर्या एंक्लेव में बताई जगह पर होना था। यहां नेहा अपने साथ 2 और लोगों को ले गई। नेहा ने रकम देने से पहले प्रदीप को सामने लाने की बात कही। इस पर पुलिसवालांे और नेहा के साथ आए लोगों के बीच कहासुनी हो गई। बात मारपीट पर पहुंच गई। किसी ने पीसीआर को सूचना दे दी। स्थानीय पुलिस ने मौके पर पहुंच पुलिसकर्मियों को पकड़ लिया। पीड़ित नेहा ने पुलिस के सामने पूरी कहानी बयान कर दी।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News TodayOriginal Article

مقالات ذات صلة

زر الذهاب إلى الأعلى
إغلاق